Sunday, 29 May 2011

कोरान इलहामी किताब है

QORAAN AND ECONOMICS

I am aware that there was a person who earned sometime back his Ph.D. from a Gujarati University proving two things , one after the other: (one):-That The Qoraan is NOT from God (Naoozobillah) and (two):- That The Qoraan IS from God. The names of the person and that of the Uni have escaped me.

Before I ask you to read further, I wish to ask Allah (SWT) and you to pardon me if I have made a mistake in what I think is the case.

My coviction is that it is from the heart that you must SEE the Qoraan and you will see it IS from the God and no PROOF is required. Never the less, we have been asked by Allah (SWT) in Qoraan itself to ponder and think. And we cannot but notice certain things. Although I am definitely no authority, no, not even nearly, of Qoraan or of any other disciplin like Economics. But certain things become so popular that even novices come to know about it. I have also come across a very established rule of economics. I noticed that this rule recieved Allah’s attention and He asks us to follow it. The rule is: ‘spend’ and ‘do not save’ (so that the economy will be vibrant.) Also the less the interest, the more progressive the economy. (SEE THE FEW AYAT OF SURAH BAQARAH AND THE WORDS, " WAMIMMA RAZAQNAHUM YUNFIQOON")

Saturday, 28 May 2011

AAP BEETI

Dhaanpa  Kafan  Nay  Daag-e-ayeubay  Brahangi,
Main varna  har  Libaas main  Nangay-wajood  tha.     GHALIB


न  जाने  क्यों  ये  शेर  पढ़कर  और  एक  ख़त  पढ़कर  ४५  साल  पहले  का   वाक़िया   याद   आ  गया .  पहले  तो  ये  बता  दूं  की  अब  Pension  पाने  के  बाद  तो  सब  को  ये  हकीकत  मालूम  हो  जाती  है  की  सब  लोग   सिर्फ   Pensioner  हैं  और  अब  उनका  कोई     दूसरा  Status  नहीं  .   हम  लोग  मतलब  सलीम  साहेब  , मरहूम  सईद  अफज़ल  और  बहुत  से  दोस्त  तब  नौजवान  थे   और  एक  एक  बेंच  के  इंचार्ज   थे   हम  सब   का   Boss    एक  फोरमैन   होता  था    जो  २०-२५ साल  की  नौकरी  कर  चुका  होता  था .  ये  सब  बताने  का  मतलब  ये  है  कि  एक   Situation  का  असली  मज़ा  लिया  जा  सके .   हाँ   हमारे  पास  एक  नौजवान   लेबर   था  वोह  छुटि  से  पहले   नहाता  , एक  अछि  सी    पैंट   और   कमीज़  पहन  कर  बिलकुल  हीरो   बनकर  जाता  था   और  वोह  रोज़  तिलहर  से  आता  जाता  था   तिलहर  के  बहुत  लोग  फैक्ट्री  में  थे 

एक दिन  मालूम  हुआ  कि  उसने  अपने  मोहल्ले  में  बताया  हुआ  है  कि  वोह  फैक्ट्री  में  फोरेमेन  है     उसदिन  हमें  इसके  माने  समझ  में  आये  "  Where Angels  fear to tread  Fools  rush  in  "


  इस  तरह  बहुत  से  लोग   ये  गलती  कर  देते  हैं , इस  फैक्ट्री  के   एक   Manager  { Class I Officer}  ने   मुझको   बताया   था  कि   में  जब  अपनी  फॅमिली  में  जाता हूँ  तो  अपने  को General Manager  बताता   हूँ  फिर  भी   IAS   ,  IPS    के  बीच  कोई  ख़ास  इज्ज़त  नहीं  मिलती   कुछ  हम  सब  के   और  हमारे  समाज  के  Mental  Blocks   हैं  जो  दूर  ही  नहीं  होते   जैसे  आज  IIT   IIM  कि  Brand  Value  है   जो   बहुत   जल्द   नीचे   आने    वाली   है   क्योंकि   मंत्री  लोग  ही  कह  रहे  हैं 

इस  पर  वोह  मशहूर  बात  याद  आई   जब  गाँव  कि  एक  बुढ़िया   ने  खुश  होकर   SP  Saheb  को  दुआ  दी  थी  खुदा  करे  वोह   दरोगा   हो  जाएं

बस  साहेब  ज्यादा तर  दूर  के  ढोल  सुहाने  होते  हैं   या   फिर  ये  कह  लें   कि    अंगूर  खट्टे  हैं. 



A romantic Ghazal sung by Abida Parveen

video

Mujh ko is ghazal ka yeh sher bahut pasand hai -

Allah re chashm-e-yaar ki mojiz bayania.n 
Har ek ko hai guma.n ke mukhaatib hami.n rahe.

Doosra ek sher is liye pasand hai ke hum logo.n ke hasb-e-haal hai.-

Jaa aur koi zabt ki duniya talaash kar
aey ishq hum to ab terey qaabil nahi.n rahey    

दिल का गुबार

weapons
28 May
Maulana Azad was one of the great personalities in Political and academic setup in India for a long time. He was a prolific writer as he was also a very sensible thinker. He died when I was in class 7 and I still remember the day the school was closed for it. We were told that the Minister of Education had died. Now a days the ministers of Education are sometimes even those who cannot write their name. Azad was the most eligible person for that post.

Much later in 1987 I found his book Ghubar-e-Khatir in my uncle’s collection and read it. Now I own my own copy of it and cannot read it enough.



There are many matters discussed in it from many angles. He wrote all this addressing to some friend of his whom he addressed as ‘siddeeq-e-mukarram’.

Two things I now remember off hand are: (the gist, not exact words)

(i) Muslim Ummah must work for acquiring and keeping not only the capability of producing weapons but also maintaining a clear superiority in it above that of the western powers if it has to save it self from total submission.

There was a time not long ago when Muslims had that superiority and when Muslim forces invaded European countries, the priests and common men prayed in churches for victory and the prayers went unheard. Muslims came and conquered. Now Muslims pray in the mosques and the prayers go unheard while the west continues to dominate as they wish over muslims.

(This was true 70 years or so ago and it could not be more true today. Now I DO NOT necessarily agree with this theses. Violence begets violence and peace and harmony is achieved through love. One must try to achieve consensus among civilisations and promote one’s point of view by demonstrating patience and tolerance . )

(ii) He wrote aboutJerusalem. He analysed and found that this word means Darussalaam. Which in Arabic means the place of peace.

Now I have lived in two of the three Darussalaams in this world. InTanzania, Dar-es-Salaam for about 8 years and in Brunie Darussalaam for 14 years. I hav yet to visit Jerusalem and HOPE to go the one above hereafter.

Friday, 27 May 2011

AAP BEETI

Ye to naheen ki Gam naheen
haan meri aankh nam naheen

Tum bhi to tum naheen ho aaj
Ham bhi to aaj ham naheen

Ab na Khushi ki hai Khushi
Gam kaa bhi ab to Gam naheen

Maut agarchay maut hai
Maut say zeest kam naheen

Firaq Gorakhpuri



फ़िराक   साहेब  जब  अपने  रंग  मैं  कलाम  कहते  हैं  तो  आप  सिर्फ  वाह  वाह  ही  कह   सकते  हैं 


मुद्दतें  गुजरीं  तेरी  याद  भी     आई   ना  हमें ,
और   हम  भूल  गए  हों   तुझे  ऐसा  भी  नहीं .




ये  कैफिअत   हम  महसूस  कर  सकते  हैं   मगर  बयान  करने  के  लिए     फ़िराक  ही  दरकार  हैं...



AAP BEETI

फैज़  अहमद " फैज़ "   इस  सदी  का , एशिया  का , सब से  बड़ा शायर   इनका  कलाम  सुन  ना   तो  हमारी  किस्मत  मैं  कहाँ   मगर  भला  हो  उनके  चाहने  वालों   का   और  YOUTUBE    का  उनका  आखरी  मुशाइरा    भी  सुन  ने   को  मिल  गया 




At this moment it seems like
     Nothing exists.
No moon , no Sun  , neither
Darkness , nor radiance.


In front of Eyes , there is some ,
Beauty behind laced Curtains,
In the domains of heart ,
Some  pain  resides.


Perhaps in the dense tree,
In  fancy boughs ,
No  dream  will ever  come ,
To  seek  refuge..


May be it is just an illusion ,
Or  May be something I heard,
In the street,  there are sounds,
Of some one's vanishing footsteps.


No  estrangement , no ,
Affection   no involvement,
No one is yours,  for me,
No one a stranger.


It is true this lonesome moments is,
very cruel  and  testing.
But  O  my  heart , this is only,
  Just  a  moment,
Take courage , there is all the,
Time that remains to live.




                        FAIZ  AHMAD  ' FAIZ'

Wednesday, 25 May 2011

AAP BEETI

पहले तो  ये  सोचा  की  शकील  भाई  के  सच  पर  Comment  लिख  दूं   मगर  सच  क्या  है   सच  अगर  हम को  दिख  जाए  तो फिर समझ  लो  की  दुनिया   पा  ली   और  इस  दुनिया  के  बाद  जो  कुछ  है  वोह  भी  पा  लिया   हम  अपनी  समझ  ,  अक्ल  , इल्म   के  दायरे  में  बंद  हैं   और  हमारे  छोटे  छोटे  फायदे ,  ये  रिश्ते  ,  ये  हवस , ये  सब  हमको  सच  से  बहुत  दूर  ले  जाते   हैं   हमारे  वहम ,  हमारे   खौफ   ये  सब  आँखों  पर  पट्टी  बांध  देते  हैं   और लालच    से   दोनों  हाथ  बन्ध  जाते 

खैर   साहेब  यहाँ  हस्सास  इंसान  के  लिए   सिर्फ  दर्द  ही  दर्द  है  और  वोह  भी  अपनों   से...........

ये  ज़िन्दगी  कभी  कभी  अज़ाब  लगे  है ,
कूवाते-समात  कभी कभी  अभिशाप लगे  है ,
नाकर्दा गुनाहों की  जब हमको   सजा  मिले ,
ये कहाँ  का  बताओ  इन्साफ  लगे  है .
दिल चाहे  की  छोड़ दूं  जिनसे ये शाप मिले ,
मगर  अपनों  को  छोड़ना भी तो पाप लगे  है 




हमलोग  न  तो  लिख  सकते  हैं  न  ही  गा  सकते  हैं  , शामे-फ़िराक  पे   ग़ज़ल  आबिदा परवीन  की  आवाज़  में  सुनें.


शबे-फ़िराक  तो  गुज़र  ही  गई  है   क्या  अब   भी  रौशनी नहीं  दिखी..................................








सत्त्यम एव जयते

सत्यम एव जयते
यह संस्कृत का एक मशहूर फरमान है ।
लेकिन सच क्या है, जीत क्या है, यह एक सवाल है ।
इस का उत्तर क्या है
हम तो अक्सर जीतते जीतते जान कर हार जाते हैं । और इस हार में जीत से ज़ादा मज़ा होता है।
सच को ढूँढते ढूंढते झहूट की दीवार को चाटते हैं और जब दीवार ख़तम होती है तो सच भी घाएब हो जाता है ।
बस एक सुराख़ हासिल होता है।
सत्यम एव जयते का क्या यह मतलब है के जो सच होता है वोह जीतता है?
या जो जीतता है वोह सच होता है?
जीतने के लिए तुम्हारा सच होना ज़रूरी है
या सच सच जब ही हो गा के वोह जीत कर दिखाए?
और जीतना तो है मगर किस से। यानी हमारे (सच कह रहा है) साथ कौन खेल रहा है जिस से हम को जीतना है?...................
क्या यह काफी नहीं है के सच सच है। क्या ज़रूरी है के वोह जीते भी?
सच तो बे निआज़ होता है। उस को जीत और हार से क्या लेना देना।
..............

बक रहा हूँ जुनूँ में क्या क्या कुछ .......

(सलीम ने खुद ही हम को यह मोका दिया है के हम अपनी दिल की भरास निकालें। अब भुगतो ।)

Monday, 23 May 2011

AAP BEETI

कल रात  करीब  १०.३० बजे  IPL  का  मैच  देख  रहा  था  की  अपने  बच्चे  का  फ़ोन  आया की  वोह  करीब  रात  के  ११  बजे  आ  रहे  हैं  तो  दरवाज़ा  खोल  कर  बहार  आया  , देखा  की  एक  कार  पड़ोस  की  गली  में   सड़क  पर  ढेर  की  गई   रेत  में  फँस  गई  है  { हमारे  पडोसी  मकान  बनवा  रहे  हैं  तो  यह  इताब  तो  मोहल्ले  वालों  को  झेलना ही  है } जब  में पास  गया  तो   गारी  चालक  ने सलाम  किया , में  ने  पूछा  की  में  क्या  कर  सकता हूँ  उन्होंने  कहा की  एक  फावड़ा  दरकार  है  दो  मजदूर { जो  शायद  वोह  ही  लाये  थे }  लगे  हुए  थे  में  घर  आया  फावड़ा  तो  नहीं  मिला  मगर  एक  कस्सी  मिल  गई  वोह  ले कर  में  ने  उनके  आदमिओं को दे  दी.  करीब  आधे  घंटे  की  महनत  के  बाद  वोह  कार   वहाँ  से  निकल  सकी .

खैर   जब  वोह  लोग  जाने  लगे   तो  में  ने  उनको  पहचान  लिया  वोह  मोहल्ले  के  ही  थे  और  उनके  साथ  जो  मोहतरमा थीं  वोह   बोलीं  "  चचा  सलाम , इस  दौर में   इतनी  मदद  कौन  करता  है   शुकरिया   "


में  हैरान  था  की  क्या  हमलोग  इतने  खुदगर्ज़  हो  गए ,  क्या  घर  से  बाहर  निकल  कर किसी की  परेशानी  बाट  नहीं  सकते     क्या   ज़िन्दगी    IPL , TV  Serial  , और  TV  Film  में   ही   सिमट   कर   रह   गई   है    हम  TV  ko  Idiot  Box  कहते  हैं     क्या  हम खुद   Idiot बनकर   नहीं   रह   गए   हैं .  


मगर  ये  तो  घर  घर , हर  मोहल्ले  और  शहर  की  हालत  है   जब  कोई  परेशानी  पड़ती  तो  हम  को  मालूम  होता  है  की  हम  कितने  अकेले  हैं.......



Friday, 20 May 2011

AAP BEETI

आज सुबह सुबह  सलीम  साहेब  ने  वजीर अंजुम  का  ज़िक्र  कर  दिया  बस  क्या  था  वोह खूबसूरत  इंसान  और  उससे  भी  ज्यादा मदहोश  आंखें  और  वोह  पढने  का  अंदाज़  याद आ   गया   कैसे  कैसे  लोग  हमारे  बीच  मैं  नहीं  रहे   भला   हो   सलीम  साहेब  के  ब्लॉग  का उनका कलम  पढ़  कर  यादें   ताज़ा  कर  लीं 

हादसे  राह  भूल   जाएँ  गे    साथ  मेरे  कोई  चले  तो  सही ....
                    वजीर  अंजुम 


खैर अब  हम  उस  उम्र  मैं  हैं  की "In  Obituary column  most  of  the name  appears  of  our  colleagues or  friends "   ये  छोटा  सा  शहर  है   तमाम  लोग  जो  हमारी  उम्रर     के  हैं  वोह  किसी  न  किसी  तरह  से   Ordnanace Clothing Factory  Shahjahanpur  से   जुडे हैं और  वहीं  के  एक  साथी  हैं  जो ५-६  माह  मैं  कहीं न  कहीं   टकरा  जाते  हैं   और  साहेब  वोह  सिर्फ  एक ही  तरह  की  खबर  देते  हैं   उनका  अंदाज़  ये  है   "  अरे   गंगवार  साहेब  याद  हैं  वोह  नहीं  रहे  और  वोह  अपना  कैंटीन  मेनेजर   चतुर्वेदी   उसका  तो  एकदम  से  दिल  का  दौरा  पडने  से  इन्तेकाल  हो  गया  जबकि   वोह  शुगर  का  मरीज़  था  { मनो  शुगर  वाला मर  ही  नहीं  सकता } अशोक  के  बारे  मैं  क्या  बताएँ  वोह तो  आप  का  ख़ास दोस्त  था   रति  राम  को  तो  मरे  हुए   बहुत  साल  हो  गए   कलीम  साहेब  का   आपको  मालूम  ही  हो  गा  "

इसतरह  वोह  मेरी  GK    नहीं  बढ़ाते  बल्कि   मेरा  दिल  बुझा  देते  हैं   फिर  इसबार   मैंने  उनका  काउंटर  Doze  निकाला       उनसे  पूछा  पोपली  साहेब  के बारे  मैं  मालूम  है  वोह १९८७ में   Retire   हुए  थे  कल  फून  आया  था   बहुत  मजे  में   हैं  सब  के  बारे  में पूछ   रहे  थे   और  खान  साहेब  वोह  तो   १९९१  मतलब  २०  साल  पहले  ही फारिग   हुए  थे   कल  अपनी  बेटी  को  स्कूटर  पर  ले  कर  कहीं  जा  रहे  थे  यहाँ  पर  ये  कहना  और  भी  मुनासिब     होगा   की  इन  खान  साहेब  के  बात  करने का  अंदाज़   और  लहजा  उतना  ही  दिलचस्प  है जितना   १९६३  में   यानी ४८  साल  पहले  था    वोह  बहुत  दिलचस्प   इंसान  हैं    और  फिर  में  उन  साहेब  को  बताया   की  एक  साहेब   अब  भी  बाज़ार  में   पैदल  मिलते  हैं   और  सब्जी  खरीद   रहे  होते  हैं  वोह  १९७७   मतलब ३४  साल  पहले   फारिग  हुए  थे 

        लेकिन  हमारे   यहाँ   हम  लोग  सिर्फ  खबर  के  भूके   हैं   जब  तक  कोई  मरता  नहीं   खबर  नहीं  बनती  बात  करने  का   मौजू  नहीं  बनता ..............

हादसे  राह  भूल   जाएँ  गे    साथ  मेरे  कोई  चले  तो  सही ....
बात   वजीर  अंजुम  की  थी  उसके  कलाम  की  थी   और  आज  भी   इस  शहर  में  उसको  लोग याद  करते  हैं  ज़िक्र  होता  है   और  एक  शाइर  की  यही   कामयाबी  है ........

AAP BEETI




भाई   शाइरों  की  हिम्मत   और  इमानदारी  का  तो  मैं  काइल  हों  ,  मगर  मजाज़    का  कलाम   और  खासकर  उनकी   अपने  तारुफ़  पर  लिखी  ग़ज़ल  पढने  के  बाद   तो  दिल  ही  खुश  हो  गया. 





Khuub pahachaan lo asrar huu.N mai.n 
jins-e-ulfat kaa talab_gaar huu.N mai.n 

ishq hii ishq hai duniyaa merii 
fitanaa-e-aql se bezaar huu.N mai.n 


aib jo haafiz-o-Khayyaam me.n thaa 
haa.N kuchh is kaa bhii gunah_gaar huu.N mai.n 

zindagii kyaa hai gunaah-e-aadam 
zindagii hai to gunah_gaar huu.N mai.n 

merii baato.n me.n masiihaa_ii hai 
log kahate hai.n ki biimaar huu.N mai.n 


AAP BEETI

Since last three generations  we have been  in   Government Services  . Earlier  two i.e. my father & grandfather   are  no  more   and  I  am  a retired  Government  Official  drawing pension.  I  am  narrating  this  because  I  want to clarify the Class to which  we  belong.  I  made  this  classification  on  my  own.


1. Super  Rich   ....  Those  who  make  news for  their  fortunes.
2. Very  Rich    .....   These  persons  are  really  rich  but  often  they  don't make  news.
3. Rich    .................   Rich  means   , rich  who   can  buy all the comforts which they desire.
4. Middle  class.......... As their name illustrates they are no where.
5. Poor........................Poor  means  Poor  who is not assured of his both times meal.
6.Non-entity .......These  Poor don't figure any where and no body bothers/cares about them . They  have  got  no  voice.




    Just  to  be  modest  about ourselves   we  made  three  Class of  Middle  Class  viz.   Upper   Middle Class , Middle Class  and  Lower  Middle Class and  I  placed  myself  in  Lower  Middle  Class  and  I  was  happy  till  yesterday. A  news  item has  robbed  my  satisfaction , with  which  I  lived  so  long.  A  report   by  National Council for Applied Economic  Research { NCAER}  for " Center for macro Consumer Research "   has  explained  that a  family falls under  middle  class  whose  annual  income is  between 3.7 Lakh  to 17  Lakh  based on price level  of 2009-10.


      Now  I  as   a  Pensioner  I  don't  fall   even   under  Lower  Middle  Class, that  means  I  am  really  a  poor  man  and  so  long  I  was  cheating  myself.
However in  this  age  of  information , we  all  have  got  access  to  all  the  data ,  information &  report   but  have  we  got  knowledge ?  I  feel that  we  lack knowledge.  These  data &  reports  are like  Bikini  which  shows all the  prominent things but  conceals all the vital statistics.


     They say  this  is  information  age  but  I  feel  that  it  is  mis-information  age. We  are  being  regularly  fed  with  all  the  things  which  are  not  relevant  to  us and  all  the  matters  which  really  matter  to  us  are  being  kept  aside  . Matters important  to  us  are  not  being  brought  out   and  we  are  busy  with CWG  ,  IPL  ,  World  Cup  and  next  year  in  Olympic .   These  things  which  are  not  important  for  us  being  planned  well  in  advance   and  things  which  matter  for  Poor are  being  ignored  lying  hidden or  being pushed  under  the  carpet.


ye faislaa to shaayad Waqt bhi na kar sakay
Sach kaun boltaa hai adaakaar kaun hai ... 



                                    Mairaj  Faizabadi


This applies to all the items , media report , and whatever we read , surf , listen or  even  think........

Thursday, 19 May 2011

बुलबुल







मेरे दोस्त मजहर साहब कितने खुश


नसीब हैं की उनके आँगन में बुलबुल ने बसेरा डाल लिया है हम ने आज तक कोई बुलबुल नहीं देखी न उसकी आवाज़ सुनी बस किताबों में उसका तजकिरा देखा है । आज इन्टरनेट पर देखा भी और आवाज़ भी सुनी, वाह वाह। कोएल तो कूकती है और हम जैसे बूढ़े भी सुन लेते हैं लेकिन बुलबुल की अपनी एक दुनया होती है। यहाँ न्यू ज़ीलैण्ड में सैकड़ों चिड़ियाँ होती हैं और खूब बोलती हैं लेकिन बुलबुल और कोएल नहीं देखी। उर्दू शायरी में बुलबुल को एक खास मुकाम हासिल है लेकिन कोयल को किसी शाएर ने जहाँ तक मुझे मालूम है नहीं अपनाया। अजीब बात है मुझे एक भी शेर बुलबुल वाला याद नहीं आ रहा है सिवाए इसके, की "हम बुलबुलें हैं इसकी यह गुलसितां हमारा और इस शेर में रवाइती हुस्न, शौक़ और इश्त्याक का फुक्दान है । आज ३१ मई को सलीम साहेब की बदौलत मुझे यह शेर मिला :

यह आरज़ू थी तुझे गुल के रू बरू करते

हम और बुक्ल्बुले बेताब गुफ्तुगू करते

(आतिश)

वैसे चिड़ियों, मौसम, रंगों और फूलों से रस्मो राह रखने वालों से वास्ता रख सकते हो। उन पर भरोसा कर सकते हो। वह एक खूबसूरत दिल के मालिक होते हैं। यहाँ पर मुझे मजहर याद आ रहे हैं।सुबूत के तौर पर वोह बुलबुल जो उनके साथ रहती है।

शकील अख्तर

Tuesday, 17 May 2011

AAP BEETI

अब  साहेब  सब  कुछ  Digital है  और  हर  आदमी  को  मालूम  है  की  क्या  है . जब  मैं ने  TV  पर  देखा  की आज  दिल्ली  मैं  तापमान  ४४.१ C   है   तो  मैं  ने  अंदाज़  लगाया  की  हमारे  शहर  का  भी  तापमान  ४१ C  के  आस  पास  ही  हो गा   मगर  भला  हो  Digital  Electronic  Clock  का  हमारे  मौलाना ने  फ़ौरन  कहा  नहीं हमारे  शहर  का  तापमान  भी ४३ से  कम  नहीं  क्योंकि  मस्जिद  की  घडी   ही  ४०  बता  रही  है   भला  हो  इस  बहस  का  हमारा  ध्यान  गर्मी  से  हट  कर  आंकड़ों  मैं  फँस  गया. 



मैं  ने  पहले  बताया था   की  इसी  मौसम  में  बुलबुल  अंडे  देती  है   मेरे  छोटे  से  आँगन  में  हर  साल  एक  बुलबुल  का  जोड़ा  ये  फ़र्ज़  अदा  करता  है  ऊपर  फोटो  में   बुलबुल  अपने  अण्डों   पर  सकूं  से  बैठी है  बिना  किसी  किस्म  का  गर्मी  का  शिकवा  किये.

AAP BEETI

आज वक़्त  की धूल  में  एक  गीत  दब  कर  रह  गया  है   ये  नीरज  का वो  मशहूर  गीत  है जिसने  उनको  बे-ताज  बादशाह  बना  दिया  था   और  वोह  बॉलीवुड   तक  पहुंच  गये  थे 
 भला  हो  You-tube  का   सब  सुनने  को  मिल  जाता  है  आप  केवल  सुनें   देखें  न 



AAP BEETI




Shakil  Bhai  you referred the Gazal sung by Habib Wali. This is wonderful and one of my favourite in old days . However it now again seems more relevant with the present set up. Hope you would like it Regards. Mazhar masood

Monday, 16 May 2011

AAP BEETI

लीजिये  मई  का महीना  अपने  शबाब पर  है पारा  ४० को पार  कर  चूका  है  और  हम  हर  साल  की  तरह  गर्मी  का  रोना  रो रहे  हैं   साहेब  हम  भी बहुत  न-माकूल  चीज़  हैं  हर  मौसम  मैं  रोते  ही रहते  हैं  हर बार  जब  Petrol , Gas  Diesel के  दाम  बढते  हैं  तो हमारी कमर  टूट   जाती  है   लेकिन  ६ महीने  बाद  फिर  दाम  बढते  हैं  तो  फिर ये  कम्बखत   टूट  जाती   ये  कमर  क्या  चीज़  है  ये  तो  कोई  कवि   ही  समझ  सकता  है   जो  बराबर टूटती है  और  होता  कुछ  नहीं 

 ये  ज़रूर  है  जब   हम  अपने  ज़माने  की  फ़िल्मी   Heroines  की  कमर  याद करते  हैं  तो  फख्र  से  सर  ऊंचा  हो  जाता है  क्या  सेहत  होती  थी   आजकल  तो  Heroines  की  माताश्री  की  कमर  भी  उनकी  कमर से  कम  होती  है  ये सब  कितनी बीमार सी लगती  हैं .....  और  अब  तो  ZERO  का  Funda  आ गया है  खुदा  जाने  ये  क्या  होता है  मैं  तो  ये  समझता हूँ  Bones+Skin   और  बाक़ी सब  Zero    ही  होता  है.

बात  तो  साहेब  गरमी की  है   इसका  अलग  ही  मज़ा  है खूब पानी  से  खेलो  जितना  चाहो शरबत पियो  खरबूजे और  तरबूज  आ चुके  हैं  और  आम  भी  बस  आने  वाले  हैं   ये नैमतें  फिर  कहाँ   रात  को  ज़रा  खुले  आँगन  मैं  आप  लेट  कर  देखें  सुबह  के  वक़्त  जो हवा  चलती  है   वोह   फिर  कहाँ     बच्चों  को  पोखरों  मैं  अठ्खेलियन  करते  देखिये    और  इस  मौसम  मैं  उनको   क्रिकेट  खेलते  देखिये   और  हिम्मत   की  दाद   दीजिये आजकल  ही  बुलबुल  अपने  बच्चों   को  उड़ना  सिखाती  हैं   वोह  देखिये   खुदा  की   कुदरत   हर  तरफ  बिखरी  पड़ी  है  इस  सुहाने  मौसम  का  मज़ा  लीजिये  बस  खाली  पेट   न  हों   पानी  और  पानी   बस  इसका  सेवन  करैं.  आप    महसूस  करेंगे  की   इस  मौसम  का  कोई  बदल  ही  नहीं  है...........



नहीं  आपको  हमारी  बात   ठीक  नहीं  लगी...................

Saturday, 14 May 2011

AAP BEETI

साहेब  १३ मई  आई  और  एक  भूचाल  मना कर  चली  गई   १३  का  अंक   हमारी  बहन जी  को  तो   Suit करता  ही  है  पता  चला  की  दीदी  को  भी  १३  का  ही  अंक  अच्छा   लगता  है    है   मगर    South  की  Iron  Lady  को   भी  यह   ही  Suit   कर  गया .  दिल्ली  मैं  बैठी शीला  बहन   और  सोनिया जी  के  चहरे  पर  भी  मुस्कराहट   बिखर  गई   सरदार  जी  की  जुल्फें  भी   पगरी  के  अन्दर  ही  अन्दर  लहरा  गई   होंगी. 

   हम  को   बहुत  अच्छा  लगा   की  हम  ने  बहुत  वर्षों  पहले  ही  अपने  घर  की  सत्ता  एक  महिला  को  ही  सोंप  कर  अमनो-अमान  मांग  लिया  था    और  हमारे  देश  की  जनता  भी  कम  जागरूक  नहीं  है   उसने  भी  बार-बार   ऐसे  ही  फैसले  किये  हैं   मगर  सियासत   के  गलियारों   मैं  बैठे  हुए  लोग   ये  नहीं  चाहते  हैं   वरना   हर  तरफ  अमन  ही  अमन   हो.

    वीरप्पन  को  लोग  भूल  गए  होंगे  मगर  उसकी  मूंछें  याद  होंगी  उसका  काम  भी  तमाम    Iron Lady   ने  ही  किया  था   और  बहन जी  ने  तो  क्या  नहीं  किया  यहाँ  किसी  को  याद  दिलाने   की  ज़रुरत  ही  नहीं. 


      वाह   और   अगर  आप  इन  सब  का  अंदाज़े   बयान   देखें  तो  कह  उठें .......


    دیکھنا   تقریر    کی  لذّت   کی  جو   اسنے  کہا 
میں   نے  یہ  جانا کی  گویا یہ  بھی  مرے  دل  میں  ہے         غالب 









Tuesday, 10 May 2011

यह क्या ज़िन्दगी है

यह क्या ज़िन्दगी है, यह कैसा जहाँ है
जिधर देखिये ज़ुल्म की दास्ताँ है।
यह शेर १९६४ में फिल्म थी उस में एक गाने का है नामं याद नहीं लेकिन आज भी यह उतना ही हस्बे हल हैऔर अगर तारीख की ओर देखें तो लगता है हमेशा ही से यही सूरत हाल रही है। हाँ मगर स्थानीय तौर पर देखें तो यहाँ न्यू ज़ीलैण्ड में राम राज का सा समां लगता है कभी कभी। इतना सुकून और अमन है, ऐसी साफ सफाई है काम यूं हो जाते है, गाड़ी चोरी हो जाये तो फून पर इन्सुरांस पैसे अकाउंट में दाल दे वगैरा। एक बार पिछले साल हमारी कमीज़ और पतलून गिर गए । यह दोनों चीज़ें हम पहने हुए थे । साथ में सर जोर से दरवाज़े के शीशे पर लगा वोह चकनाचूर हो गया (शीशा , सर नहीं) और इसी लिए सर में गुमडा भी नहीं पड़ा बस ज़रा कान के पास शीशा चुभ गया । इन्शोरांस ने फ़ोन पर ही आदमी भेज कर इतना महंगा शीश बदलवा दिया
ज्यादा तर काम phone पर hi हो जाते हें , के जी घबराने लगता है। हम जो तीसरी चौथी दुनिया वाले हैं इस के आदी नहीं है । यकायक जी चाहता है भाग कर वहीँ चले जाएँ जहाँ परेशानियाँ हैं और धोके हैं और क़दम क़दम पर लुटने के सामन हें । हमारे एक दोस्त कराची में कई हफ़्तों तक सिविक सेण्टर अपने एक जाइज़ काम के लिए खुआर हो ते रहे काम नहीं हुआ आखिर क्लर्क ने पूछा तुम क्या करते हो । कहा अध्यापक हूँ । वोह बोला पहले बताना चाहिय था यहाँ अद्यापकों और बेवाओं से कुछ नहीं लिया जाता। उनका काम हो गया।(यह सच्चा वाक्या है , उन का नाम रहमान है)
हिंदुस्तान और पाकिस्तान को अगर इन की तरह बनना है तो दो बातें करनी हों गी। आबादी पर कंटरोल और education . तीसरी बात यह के वेस्ट से पंगा मत लो। वोह जो कहते है इफ यू कांट विन them ज्वाइन them । कुछ यह कहें गे की ग़ुलामी से बेहतर है के आदमी मर जाय और कौमों को अपनी पहचान और अपनी सभ्यता के अनुस्सर जीना चाहिए । ठीक है तो मरो। चानकिया के अनुसार झुकना अच्छा है के उस में समय
गुजरने के बाद हालात पलटा खा सकते हें ।
लेकिन वेस्ट में सब अच्छा है ऐसा भी नहीं है। बाहर से सब टीप टाप है अन्दर देखो तो ज़ादा तर लोग बचैनी का शिकार हें। मार्केट इकोनोमी ने सब को , अधिकतर लोगों को, क़र्ज़ के जाल में फंसा कर रखा हुआ है। अंदरूनी सुकून जो हमें वहां सूखी रोटी और चटनी के साथ मिलता है वह यहाँ बहुत मुश्किल है यह एक डिलेमा है ।

क्या ख्याल है?
शकील अख्तर


Saturday, 7 May 2011

ज़िन्दगी ओ ज़िन्दगी

ज़िन्दगी भी क्या अजब चीज़ है की जितना उसको सहारा दो उतनी ही वह हम से रूठती जाती है। मिसाल के तौर पर आप शमा जलाएं तो आंध्यां आयें गी। कश्ती का तूफानों से गहरा रिश्ता तो आप को पता ही है, और तो और जहाँ आप ने क़दम निकाला के केले का छिलका आप का मुन्तजिर है। बीमारी में आदमी दवा इस लिए नहीं खाता है की वोह ठीक हो जाये गा, बल्कि इस लिए के आखिर डाक्टर को भी जिंदा रहना है, वरना इतने जानवर हैं सब बीमार पड़ कर बिना किसी दवाई के खुद बखुद ठीक हो ही जाते हैं। या मर जाते हैं। हम भी दवाई खा कर यही करते हैं। जीना मरना एक खेल है जिस पर दुनिया का कारोबार चल रहा है अगर यह न हो तो कौन इस को पूछे। जहाँ यह ज़िन्दगी और मौत नहीं वहां के मौसम जैसे भी हों किसी को कुछ फर्क नहीं पड़ता। कुछ न था तो खुदा था उस वक़्त बस एक जामोद की सी कैफ़ियत थी। इनसान को मार कर अगर खुदा ने क़यामत के दिन फिर से जिंदा करना है तो पहले मारने की भी क्या ज़रुरत थी। और उस दिन सारे एक दुसरे को न जानते हों गे न एक दुसरे की जुबान समझते हों गे फिर हजारों लाखों सालों का फर्क हो गा, तहजीबें कई करवटें ले चुकी हों गी और एक की अच्छी हरकतें दुसरे को बुरी लगें गी। मालूम यह हुआ के हमारे बस में कुछ नहीं बस यह के ....हजरत इब्राहीम ज़ौक़ ने कहा था कुछ इस तरह (हम खुद अपनी मर्ज़ी से नहीं आये और अपनी मर्ज़ी से गए भी नहीं) शेर याद नहीं आ रहा। खुदा आप को खुश रखे।
संपादक : शकील अख्तर

Sunday, 1 May 2011

AAP BEETI

BEWAFA JAB WOH NAHIN HAIN, TO YEH QISSA KYA HAI ,
LOG MASROOF HAIN PHIR QUON MUJHE SAMJHANE MAIN.


                                                 FASIH  AKMAL  QADRI




जनाब  ऊपर  लिखा  शेर  बहुत  खूबसूरत  है , ये  हमारे  अज़ीज़  दोस्त   सलीम  खान  के  लंगोटिया  यार  का  है   जो  बिला  मुबालगा   इस  छोटे  शहर के   हमारी  GENERATION  के  बहतरीन  हर दिल  अज़ीज़  शाईर   है . 
मगर  ये  शेर  भी  कब  ज़हन  से  चिपक  जायेंगे  कहाँ  फिट  हो  जायेंगे  कोई  नहीं  जानता,  हमारी  उम्र   अब  वफ़ा  या  जफा से  बहुत  दूर  निकल  आई  है  फिर  भी  लोग  क्यों  मसरूफ  हैं  मुझे  समझाने  मैं   अर्ज़  करता  हूँ.
डाक्टर  ने  मेरा   Gall  Bladder  का  operation   बताया  मैं  ने फ़ौरन  उस Nursing Home    में  जहाँ  हमारे  घर और  मोहल्ले वाले Operation  कराते  थे  वहां  की  मर्ज़ी  बता  दी  Surgeon  से  बात  भी  हो  गई .
ये  फैसला करना था  की  हमारे  एक  दोस्त  जो  इन  मामलात  मैं दखल  रखते  हैं  फ़ौरन   कहा " पहली  बात  तो  ये  की  इस  शहर   में  Operation  मत  कराओ  दूसरी  बात  ये  की Laproscopic Surgery  करवाओ "


अब  जनाब  क्या था  एक Debate  शरू  हो  गया    हर  कोई  दोनों  तरह  की  Surgery  के   Merits  Demerits   समझा  रहा  था   मेरी  हालत  भी  वही  हो  गई  जो  ३६ साल  पहले  शादी  का  फैसला  एक  अनजान  लड़की  से  माँ  बाप  की  मर्ज़ी  के  मुताबिक  शादी   का  फैसला  करने  पर  हुई  थी 

सब  समझाने  वाले  वोह  थे  जिन्होने  कभी  Operation Table  के  दर्शन  भी  नहीं  किये  थे   मगर  हम  अपने  एक  दो  पढे  लिखे  साथियों  की  इस  राय  पर  हैरान  रह  गय  जब   हमको  बताया  गया  की  दूरबीन  Operation  के  बाद  Cancer  की  संभावना  बढ़  जाती  है       हमको  तो  आज  तक  इस  पर  भी  यकीन  नहीं  है   की जिन  बातों  का  प्रचार होता  क्या  वास्तव में वोह  कारण  हैं.

खैर  ये हमारी जान है  और  हम  ही  फैसला करेंगे अच्हा है  तो  वाह वाह  वरना  कौन जीता है  तेरी  ज़ुल्फ़  के  सर  होने  तक